ईरानी इंजीनियरों द्वारा श्रीलंका की उमा ओया हाइड्रोपावर परियोजना का निर्माण

Rate this item
(0 votes)
ईरानी इंजीनियरों द्वारा श्रीलंका की उमा ओया हाइड्रोपावर परियोजना का निर्माण

श्रीलंका स्थित उमा ओया हाइड्रोपावर कॉम्प्लेक्स कि जिसे उमा ओया बहुउद्देशीय विकास परियोजना या यूओएमडीपी भी कहा जाता है, ईरानी कंपनियों द्वारा निर्माण किया गया है।

यह परियोजना बांध निर्माण और बिजली उत्पादन क्षेत्र में ईरान की इंजीनियरिंग सेवाओं के निर्यात की सबसे बड़ी परियोजनाओं में से एक है। इस परियोजना का जल्द ही दोनों देशों के नेताओं की मौजूदगी में उद्घाटन किया जाएगा। 

उमा ओया श्रीलंका की राजधानी कोलंबो से 230 किलोमीटर पूर्व में स्थित है। इस परियोजना के ज़रिए ओमा ओया और माथाथीला ओया नदियों के पानी को कम पानी वाले क्षेत्र में कृषि विकास के लिए स्थानांतरित किया जाता है।

इस लक्ष्य की प्राप्ति के साथ ही 120 मेगावाट क्षमता के भूमिगत विद्युत संयंत्र के माध्यम से बिजली का उत्पादन किया जायेगा।

प्रति वर्ष 290 गीगावाट आवर ऊर्जा का उत्पादन, दक्षिणपूर्वी श्रीलंका के सूखे क्षेत्र में 5000 हेक्टेयर कृषि भूमि के लिए जल आपूर्ति और ज़्यादा बारिश वाले क्षेत्रों से 145 मिलियन क्यूबिक मीटर पानी का स्थानांतरण इसके लक्ष्यों में से हैं।

इस परियोजना का निर्माण, ईरान की फ़र आब कंपनी द्वारा किया गया है। श्रीलंका में ईरानी विशेषज्ञों और इंजीनियरों के प्रयास से यह परियोजना क़रीब पूरी हो चुकी है।

इस परियोजना में बहुत कठिन भूवैज्ञानिक परिस्थितियों में टीबीएम मशीनों के ज़रिए 24 किलोमीटर लंबी सुरंगों का निर्माण और तेज़ धाराओं के मुक़ाबले में जलविद्युत संयंत्रों का निर्माण शामिल है। इस परियोजना को इंजीनियरिंग की अद्वितीय परियोजनाओं में से एक माना जाता है।

ईरानी कंपनी ने स्थानीय समुदायों के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी के निभाने के कारण, 2022 में सर्वोच्च सामुदायिक पुरस्कार प्राप्त किया। इसके अलावा, इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ़ टनलिंग एंड अंडरग्राउंड स्पेस आईटीए की घोषणा के अनुसार, 2020 में 50-500 मिलियन यूरो वाली परियोजनाओं की श्रेणी में उमा ओया बहुउद्देशीय विकास परियोजना चार सर्वश्रेष्ठ परियोजनाओं में से एक थी।

पानी और बिजली उद्योग में अग्रणी देश के रूप में, ईरान इस उद्योग में तकनीकी और इंजीनियरिंग सेवाओं के निर्यात में पश्चिम एशिया क्षेत्र में पहला स्थान रखता है।

इसी तरह इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ़ ईरान, बिजली संयंत्र टरबाइन विनिर्माण देशों में दुनिया के शीर्ष पांच देशों में से एक है और इसने अपने बिजली संयंत्र उद्योग के लिए आवश्यक उपकरणों में से 91 फ़ीसद से अधिक का स्वदेशीकरण कर लिया है।

जल निकासी सिंचाई नेटवर्क, सुरंगों और बांध निर्माण सहित जल संसाधन प्रबंधन उपकरणों के क्षेत्र में ईरान की तकनीकी और इंजीनियरिंग क्षमता 100 फ़ीसद है और ईरान इस क्षेत्र में दुनिया के शीर्ष 4 देशों में से एक है।

हालांकि ईरान की इस्लामी क्रांति की सफलता से पहले देश में जल परियोजनाओं की इंजीनियरिंग के क्षेत्र में कोई क्षमता नहीं थी और देश जल उद्योग में विदेशी कंपनियों पर निर्भर था।

Read 33 times